सलमान के पिता ने किया मोदी का बचाव, कहा- रहना है तो देश की इज्जत करें मुसलमान

मुंबई. इन्टॉलरेंस (असहनशीलता) के मुद्दे पर हो रहे बवाल के बीच बॉलीवुड स्टार सलमान खान के पिता सलीम खान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बचाव किया है। एक अंग्रेजी अखबार को दिए इंटरव्यू में सलीम ने साफ तौर पर कहा कि मोदी कतई कम्यूनल नहीं हैं। सलीम ने कहा कि मुस्लिमों के रहने के लिए पूरी दुनिया में भारत से अच्छा देश हो ही नहीं सकता। सलीम ने कहा, “अगर मुसलमान इस देश में रहना चाहते हैं तो उन्हें देश और इसके कल्चर की इज्जत करनी होगी।”

क्या पाक, अफगानिस्तान, इराक या ईरान में रहना चाहेंगे मुसलमान
अपनी बेबाकी के लिए मशहूर इस स्क्रिप्ट राइटर ने कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मैं कतई कम्यूनल नहीं मानता और पूरे यकीन के साथ कह सकता हूं कि वे सबका साथ-सबका विकास में यकीन रखते हैं। दुनिया में माइनोरिटीज के रहने के लिहाज से भारत से अच्छा देश हो ही नहीं सकता। मैं मुसलमानों से पूछना चाहता हूं कि क्या वह पाकिस्तान, अफगानिस्तान, इराक या ईरान में जाकर रहना पसंद करेंगे। अगर भारत ही वह अकेला देश है जहां आप रहना चाहते हैं, क्योंकि आपको यही घर लगता है तो देश और इसके कल्चर का सम्मान कीजिए। आपसी प्रेम से रहिए।”
अवॉर्ड लौटाने वालों का समर्थन
कुछ लेखकों और कलाकारों द्वारा लौटाए गए पुरस्कारों का समर्थन करते हुए सलीम ने कहा कि सरकार को इन्टॉलरेंस के मुद्दे पर कदम उठाना चाहिए। उन्होंने कहा, “इस बात को मान लेना चाहिए कि कहीं न कहीं प्रॉब्लम तो है और इसे आपसी बातचीत से हल किया जाना चाहिए। जिन लोगों ने अवॉर्ड लौटाए हैं वे पढ़े लिखे और समझदार लोग हैं। उनकी बात सुनी जानी चाहिए और सत्ता में बैठे लोगों को प्रॉब्लम का हल खोजना चाहिए।”
लेकिन अवॉर्ड वापस करने से पहले सरकार को बताएं परेशानी
अवॉर्ड वापस करने वाले लोगों को नसीहत देते हुए सलीम ने कहा, “जो लोग अवॉर्ड वापस कर रहे हैं उनसे मैं कहना चाहूंगा कि वह ऐसा करने से पहले एक बार सरकार को लिखें बजा
मुंबई. इन्टॉलरेंस (असहनशीलता) के मुद्दे पर हो रहे बवाल के बीच बॉलीवुड स्टार सलमान खान के पिता सलीम खान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बचाव किया है। एक अंग्रेजी अखबार को दिए इंटरव्यू में सलीम ने साफ तौर पर कहा कि मोदी कतई कम्यूनल नहीं हैं। सलीम ने कहा कि मुस्लिमों के रहने के लिए पूरी दुनिया में भारत से अच्छा देश हो ही नहीं सकता। सलीम ने कहा, “अगर मुसलमान इस देश में रहना चाहते हैं तो उन्हें देश और इसके कल्चर की इज्जत करनी होगी।”
क्या पाक, अफगानिस्तान, इराक या ईरान में रहना चाहेंगे मुसलमान
अपनी बेबाकी के लिए मशहूर इस स्क्रिप्ट राइटर ने कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मैं कतई कम्यूनल नहीं मानता और पूरे यकीन के साथ कह सकता हूं कि वे सबका साथ-सबका विकास में यकीन रखते हैं। दुनिया में माइनोरिटीज के रहने के लिहाज से भारत से अच्छा देश हो ही नहीं सकता। मैं मुसलमानों से पूछना चाहता हूं कि क्या वह पाकिस्तान, अफगानिस्तान, इराक या ईरान में जाकर रहना पसंद करेंगे। अगर भारत ही वह अकेला देश है जहां आप रहना चाहते हैं, क्योंकि आपको यही घर लगता है तो देश और इसके कल्चर का सम्मान कीजिए। आपसी प्रेम से रहिए।”
अवॉर्ड लौटाने वालों का समर्थन
कुछ लेखकों और कलाकारों द्वारा लौटाए गए पुरस्कारों का समर्थन करते हुए सलीम ने कहा कि सरकार को इन्टॉलरेंस के मुद्दे पर कदम उठाना चाहिए। उन्होंने कहा, “इस बात को मान लेना चाहिए कि कहीं न कहीं प्रॉब्लम तो है और इसे आपसी बातचीत से हल किया जाना चाहिए। जिन लोगों ने अवॉर्ड लौटाए हैं वे पढ़े लिखे और समझदार लोग हैं। उनकी बात सुनी जानी चाहिए और सत्ता में बैठे लोगों को प्रॉब्लम का हल खोजना चाहिए।”
लेकिन अवॉर्ड वापस करने से पहले सरकार को बताएं परेशानी
अवॉर्ड वापस करने वाले लोगों को नसीहत देते हुए सलीम ने कहा, “जो लोग अवॉर्ड वापस कर रहे हैं उनसे मैं कहना चाहूंगा कि वह ऐसा करने से पहले एक बार सरकार को लिखें बजा

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*