रवि शास्त्री बोले- ‘नागपुर की पिच में कोई खराबी नहीं, शिकायत बंद करो’

नई दिल्ली। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मौजूदा टेस्ट श्रृंखला में पिचों को लेकर हो रही आलोचना से खफा भारतीय टीम के निदेशक रवि शास्त्री ने कहा है कि 3 दिन के भीतर टेस्ट मैच खत्म होने में कोई बुराई नहीं है और आलोचकों को शिकायतें करना बंद करना चाहिए।
शास्त्री ने ईएसपीएन क्रिकइन्फो से कहा कि पिचों में कोई खराब नहीं है। मैं उम्मीद करता हूं कि दिल्ली में भी ऐसी ही पिच मिलेगी। मुझे इससे कोई शिकायत नहीं है।
भारत 4 मैचों की श्रृंखला में 2-0 से आगे है। दूसरा मैच बारिश में धुल गया था। तीसरा मैच 3 दिसंबर से दिल्ली में खेला जाएगा। पूरी श्रृंखला स्पिनरों की मददगार पिचों को लेकर विवादों के घेरे में रही। दक्षिण अफ्रीका ने हालांकि इसकी शिकायत नहीं की।
शास्त्री ने कहा कि टेस्ट मैच 3 दिन के भीतर खत्म होने में कोई बुराई नहीं है। नागपुर में टेस्ट मैच में मुकाबला बराबरी का था। इस मैच की पर्थ टेस्ट से तुलना करें तो मैं इस मैच को देखना चाहूंगा।
उन्होंने कहा कि पिचों की आलोचना करने वालों को समझना चाहिए कि बल्लेबाज पिचों की वजह से नहीं बल्कि अपनी तकनीक की खामी के चलते आउट हुए हैं।
उन्होंने कहा कि इससे दिखता है कि क्रीज पर लंबे समय तक खड़े रहने की कला खत्म हो रही है। वनडे क्रिकेट ज्यादा खेलने से ऐसा हुआ है। इस तरह की पिचों पर खेलने से ही पता चलेगा कि क्रीज पर समय बिताना जरूरी है।
शास्त्री ने कहा कि जब आप हाशिम अमला और फाफ डु प्लेसिस को रविवार को बल्लेबाजी करते देख रहे थे तो लगा होगा कि पिच में कोई खराबी नहीं है। इसी तरह की पिचों पर पहले बल्लेबाज शतक बनाते आए हैं, क्योंकि वे इसके लिए तैयार रहते थे।
भारत के पूर्व कप्तान ने कहा कि संयम के साथ खेलने वाले बल्लेबाज इन पिचों पर अभी भी शतक बना सकते हैं तथा मुझे लगता है कि सब्र से खेलने पर 80-90 रन, यहां तक कि शतक बनाया जा सकता था। मुरली विजय जिस तरह से खेल रहे थे, वे शतक बना सकते थे।
उन्होंने कहा कि पिच में कोई दिक्कत नहीं है। दोनों टीमों के लिए पिच समान है। इस पिच पर 275 या 250 का स्कोर काफी था। इसकी शिकायत बंद करके अपने काम पर ध्यान देना चाहिए।
शास्त्री ने कहा कि मिसाल के तौर पर बेंगलुरु की पिच शानदार थी। मुझे दुख है कि हम 3-0 से बढ़त नहीं बना सके। अच्छी पिच पर दक्षिण अफ्रीका को आउट करके हमने बिना किसी नुकसान के 80 रन बना लिए थे और अगले 4 दिन दबाव बनाकर रख सकते थे। लोग उसके बारे में बात नहीं करेंगे।
उन्होंने इस आलोचना को भी खारिज किया कि नागपुर में पिच में असमान उछाल था। कहां असमान उछाल था? ठीक ही था। दूसरे या तीसरे दिन के बाद गेंद धीमी आने लगी। आप मुझे बताएं कि कौन-सा बल्लेबाज नीचे की ओर जाती गेंद पर आउट हुआ? सिर्फ दूसरी पारी में मिश्रा या फाफ डु प्लेसिस को छोड़कर।
शास्त्री ने विराट कोहली और आर. अश्विन के बयान से सहमति जताई कि विदेशी पिचों के बारे में भारत में कभी शिकायत नहीं की जाती तथा जब भारतीय टीम विदेश जाती है तो कभी वहां की पिचों की शिकायत नहीं करती।
उन्होंने कहा कि जब हम विदेश जाते हैं तो हमारे पास विकल्प नहीं होते। आप क्यों शिकायत करेंगे?कोई शिकायत नहीं करता। सिर्फ वे ही शिकायत करते हैं जिन्होंने कभी क्रिकेट नहीं खेली है।
उन्होंने कहा कि उन्हें (ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर) ऑस्ट्रेलिया में बैठकर अपनी पिचों के बारे में बात करने दो। उन्हें बता दो कि भारतीय पिचों पर बात करके अपना समय बर्बाद न करें। यहां आकर खेलें।

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*