J&K में कैप्टन शहीदः आर्मी डे के दिन पैदा हुए थे पवन, पिता बोले- मुझे गर्व है

नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर के पंपोर में आतंकियों से एनकाउंटर में जख्मी 23 साल के कैप्टन पवन कुमार रविवार को शहीद हो गए। हरियाणा के जिंद के रहने वाले पवन का जन्म आर्मी डे के दिन हुआ था। उनके पिता राजबीर सिंह ने कहा, ”मैंने देश के लिए अपने एक बेटे को न्योछावर कर दिया। वह आर्मी के लिए ही बना था।” जहां हुए शहीद, वहां दो बार आतंकियों का खात्म कर चुके थे पवन…
– कैप्टन के पिता ने कहा, ”जहां पवन जख्मी हुए, वहां कुछ दिनों पहले वे दो बार कामयाब ऑपरेशन कर चुके थे। वहां उन्होंने तीन आतंकी मारे गिराए थे। ”
– ”वे आर्मी डे के दिन पैदा हुए थे। उनकी किस्मत में शुरू से आर्मी ही थी।”
कैसे शहीद हुए पवन?
– जम्मू-कश्मीर के पंपोर इलाके में शनिवार शाम से एनकाउंटर जारी है।
– आर्मी स्पोक्सपर्सन के मुताबिक आतंकियों ने पहले श्रीनगर की तरफ जा रही सीआरपीएफ की बस पर फायरिंग की।
– इसके बाद आतंकी पास की एंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट की बिल्डिंग में घुस गए और फायरिंग शुरू कर दी।
– 10 पैरा रेजिमेंट के कैप्टन पवन कुमार वहां लीड कर रहे थे।
– फायरिंग के दौरान कैप्टन को गोली लगी थी और रविवार को इलाज के दौरान वे शहीद हो गए।
– बिल्डिंग में करीब 150 लोग फंसे थे, जिन्हें निकाल लिया गया है।
– कैप्टन के अलावा एनकाउंटर में दो जवान कॉन्स्टेबल आरके रैना और हेड कॉन्स्टेबल भोले सिंह भी शहीद हुए हैं।
क्या काम करता है EDI सेंटर?

– जम्मू-कश्मीर एंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट 1997 में खोला गया था।
– EDI सेंटर ने साल 2004 से अपनी एक्टिविटीज की शुरुआत की थी।
– इंस्टीट्यूट एंटरप्रेन्योरशिप लर्निंग और ट्रेनिंग सेंटर के तौर पर काम करता है।
– स्टेट के 22 डिस्ट्रिक्ट में एंटरप्रेन्योरशिप को प्रमोट करने के लिए यह काम करता है।
– जम्मू-कश्मीर के अलावा लद्दाख सेंटर भी इससे जुड़ा हुआ है।

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*