कोर बैंकिंग सुविधा बीस हजार डाकघरों में शुरू

नई दिल्ली। देशभर में 20,106 डाकघरों को कोर बैंकिंग सुविधा (सीबीएस) से आपस में कनैक्ट कर दिया गया है। इससे डाकघरों के खाताधारक किसी भी डाकघर से अपने खाते में लेनदेन कर सकते हैं। यह जानकारी टेलीकॉम मंत्री रविशंकर प्रसाद ने दी है। प्रसाद ने एक ट्वीट के जरिये बताया कि सोमवार को 20106 डाकघर कोर बैंकिंग सुविधा से जुड़ गए हैं।

मई 2014 में सिर्फ 230 डाकघर इससे जुड़े थे। डाक विभाग के आइटी आधुनिकीकरण के प्रोजेक्ट के तहत कोर बैंकिंग सुविधा विकसित की जा रही है। डाकघरों में आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित करके इसकी तमाम सेवाओं को आइटी इनेबल्ड बनाया जा रहा है। डाक विभाग ने अपने सभी कार्यालयों को सीबीएस से जोड़ने के अलावा एटीएम लगाने और इंटरनेट बैंकिंग सेवा शुरू करने का कार्यक्रम चला रखा है।

पेमेंट बैंक भी खुलेगा

डाक विभाग को भारतीय रिजर्व बैंक से पेमेंट बैंक स्थापित करने के लिए भी 7 सितंबर 2015 को सैद्धांतिक अनुमति मिल गई है। डाक विभाग को 18 महीने में पेमेंट बैंक शुरू करना है। विभाग को पब्लिक इन्वेस्टमेंट बोर्ड (पीआइबी) से फंड के लिए मंजूरी मिल गई है। इसकी प्रक्रिया पर काम हो रहा है। इसके बाद आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी इस पर मंजूरी देगी।

576 डाकघरों में एटीएम

डाक विभाग अपने 25,406 डाकघरों में कोर इंश्योरेंस सुविधा भी दे रहा है। उसने अपने 576 डाकघरों में एटीएम भी लगाए हैं।

 

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*