सरबजीत सिंह होंगे प्रदेश के अगले पुलिस महानिदेशक

भोपाल। मध्यप्रदेश पुलिस के नए मुखिया सरबजीत सिंह होंगे। सिंह मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के भरोसेमंद अफसर माने जाते हैं। लंबे समय तक वह सीएम सचिवालय में भी पदस्थ रह चुके हैं। राज्य सरकार सिंह को मौजूदा डीजीपी सुरेंद्र सिंह का उत्तराधिकारी बनाने पर सैद्धांतिक रूप से सहमत भी है। भारतीय पुलिस सेवा के 1985 बैच के अफसर सिंह को डीजीपी के रूप में मात्र 11 महीने का कार्यकाल मिलेगा। सिंह 30 जून 2017 को सेवानिवृत्त होंगे।

वरिष्ठता क्रम में देखें तो 1983 बैच के ऋ षि कुमार शुक्ला सरबजीत सिंह से सीनियर अफसर हैं, लेकिन सरकार ने तय किया है कि सिंह की सेवानिवृत्ति के बाद भी शुक्ला को डीजीपी बनाया जाएगा तो उन्हें तीन साल से ज्यादा का कार्यकाल मिलेगा। यही वजह है कि वरिष्ठ होने के बाद भी शुक्ला को फिलहाल डीजीपी नहीं बनाया जा रहा है। पुलिस हाउसिंग बोर्ड के चेयरमैन शुक्ला अगस्त 2020 में सेवानिवृत्त होंगे।

पुलिस महानिदेशक सुरेंद्र सिंह लगभग ढाई महीने बाद 30 जून को रिटायर हो रहे हैं। उनके उत्तराधिकारी की दौड़ में दो अफसरों को माना जा रहा था। पुलिस मुख्यालय की इंटेलीजेंस (खुफिया) शाखा के प्रमुख सरबजीत सिंह और पुलिस हाउसिंग सोसायटी के चेयरमैन ऋ षि शुक्ला में से एक के नाम पर ही मुहर लगनी थी। योग्यता और वरिष्ठता क्रम में शुक्ला डीजीपी पद के दावेदार थे, लेकिन उनके पास अभी सवा चार साल का कार्यकाल बाकी है। इस वजह से सरकार ने अपने भरोसेमंद अफसर सरबजीत सिंह को जूनियर होने के बाद भी डीजीपी बनाने का फैसला किया है। नए डीजीपी के नाम पर सहमति तब बनी, जब प्रदेश के नए प्रशासनिक व पुलिस मुखिया को लेकर सीएम के स्तर पर विचार हो रहा था। वह सिंहस्थ 2004 में वे उज्जैन के आईजी भी रहे हैं। उच्च पदस्थ सूत्र बताते हैं कि सिंह को 11 महीने के लिए डीजीपी बनाए जाने के मुद्दे पर सरकार ने ऋ षि शुक्ला को भी सहमत कर लिया है। इस भरोसे के साथ कि इनके बाद उन्हें ही मौका दिया जाएगा।

 

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*