पर्रिकर चीन की पांच दिवसीय यात्रा पर

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर से शुरू होने वाली चीन की अपनी पांच दिवसीय यात्रा के दौरान चीन के शीर्ष राजनीतिक एवं रक्षा नेताओं से बातचीत करेंगे। पर्रिकर की यह यात्रा ऐसे समय हो रही है जब संंयुक्त राष्ट्र में जैशे मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने के भारत के प्रयास को चीन द्वारा बाधित करने को लेकर दोनों देशों के संबंधों में तनाव आ गया है।

रक्षा मंत्रालय सूत्रों ने कहा कि यात्रा का जोर दोनों सेनाओं के बीच संबंधों को मजबूती प्रदान करना और सीमा मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने पर होगा। पर्रिकर की चीन यात्रा भारत द्वारा अमेरिका के साथ एक साजोसामान सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर करने के निर्णय के कुछ दिनों बाद हो रही है।

पर्रिकर 2013 के बाद चीन की यात्रा करने वाले पहले भारतीय रक्षा मंत्री होंगे। 2013 में तत्कालीन रक्षा मंत्री ए के एंटनी ने चीन की यात्रा की थी। सूत्रों ने बताया कि उम्मीद है कि पर्रिकर चीन के शीर्ष राजनीतिक और रक्षा नेताओं के साथ बातचीत करेंगे। पर्रिकर की यात्रा के दौरान कोई समझौता होने की उम्मीद नहीं है।

पर्रिकर की चीन यात्रा से पहले चीन के शीर्ष रक्षा अधिकारियों की भारत की उच्च स्तरीय यात्रा हो चुकी हैं जिसमें केन्द्रीय सैन्य आयोग (सीएमसी) के उपाध्यक्ष जनरल फान चांगलांग की गत वर्ष हुई यात्रा भी शामिल है। भारत और चीन ने जटिल सीमा मुद्दे का हल खोजने के लिए दोनों देशों के विशेष प्रतिनिधियों के तहत एक वार्ता तंत्र का गठन किया है।

इसके साथ ही दोनों देशों ने विवादास्पद सीमा के आक्रामक गश्त से उत्पन्न होने वाले तनाव के समाधान के वास्ते एक मशविरा एवं समन्वय के लिए कार्यकारी तंत्र भी शुरू किया है। अभी तक विशेष प्रतिनिधि 18 दौर की बातचीत कर चुके हैं। दोनों देशों ने अपने अधिकारियों के बीच नियमित बातचीत के लिए और सीमा बिंदु खोले हैं।

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*