सेफ्टी पर मारुति का खास ध्यान, क्रैश टेस्ट में इग्निस हुई पास

पावर और कम्फर्ट के साथ-साथ भारत में कार ग्राहक अब सेफ्टी को भी पर्याप्त तवज्जो देने लगे हैं और देश के कार बाजार की सबसे बड़ी खिलाड़ी मारुति सुजुकी इस पर खास ध्यान दे रही है। हाल ही में कंपनी ने प्रेस मीट के जरिए अपनी नई गाड़ी इग्निस की क्रैश डिफेंस की क्षमता का प्रदर्शन किया। दो एयरबैग्स के साथ आ रही इग्निस के मॉडल का 56 किमी/घंटा क्रैश टेस्ट किया गया। गाड़ी के फ्रंट को तो काफी नुकसान हुआ, लेकिन गाड़ी के अंदर इसका असर बेहद कम हुआ। साथ ही, एयरबैग्स रेस्पॉन्स भी उपयुक्त रहा।

सरकार के आदेश के मुताबिक, अक्टूबर, 2017 से हर कार का ऑफसेट और साइड इम्पैक्ट क्रैश टेस्ट में पास होना अनिवार्य होगा। इसे ध्यान में रखते हुए मारुति सुजुकी का दावा है कि यह अपने सेगमेंट की पहली कार है, जो इस नियम के हिसाब से तैयार की गई है।

कंपनी के अनुसार, उसकी विटारा ब्रेत्जा भारत की पहली ऐसी कार थी, जो इस टेस्ट में पास हुई। कंपनी के एक अधिकार ने जानकारी दी कि अडवांस्ड सेफ्टी रेग्युलेशन्स, मारुति अपनी गाड़ियों को डिजाइन और डिवेलपमेंट के दौरान 35-40 टेस्ट पर परखता है।

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*