हनीप्रीत की अग्रिम जमानत याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा

चंडीगढ़। हनीप्रीत द्वारा दिल्ली की अदालत में अग्रिम जमानत के लिए लगाई गई याचिका पर मंगलवार को सुनवाई हुई। सुनवाई के बाद अदालत ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है। हनीप्रीत ने अपनी याचिका में जान का खतरना बताते हुए अग्रिम जमानत की मांग की है।

सीसीटीवी में दिखी महिला, हनीप्रीत होने का शक

हनीप्रीत के दिल्‍ली में होने की खबर के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार करने के लिए छापामार कार्रवाई की है। हालांकि, इस कार्रवाई में पुलिस को कुछ भी हाथ नहीं लगा है। इस बीच मीडिया में एक सीसीटीवी फुटेज आया है। बताया जा रहा है कि यह फुटेज ग्रेटर कैलाश का है और दावा किया जा रहा है कि इसमें नजर आ रही महिला हनीप्रीत है। महिला ने बुर्खा पहन रखा है।

आनन-फानन छापेमारी के बाद भी पुलिस खाली हाथ –

कहा जा रहा है कि इसी फुटेज के आधार पर हरियाणा पुलिस की टीम ने आनन-फानन में गिरफ्तारी वारंट जारी कराया और छापे मार दिए। पंचकूला पुलिस टीम ने दिल्‍ली के ग्रेटर कैलाश क्षेत्र के एक मकान पर छापा मारा।

कोर्ट में मिली अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई को मंजूरी –

वहीं दूसरी तरफ हनीप्रीत के वकील ने कोर्ट में उसकी अग्रिम जमानत के लिए याचिका लगाई है जिसे सुनवाई के लिए कोर्ट द्वारा मंजूर कर लिया गया है। कोर्ट इस याचिका पर दोपहर 2 बजे सुनवाई करेगी। अपनी याचिका में हनीप्रीत ने कहा कि उसे जान का खतरा है। वो डेरे से बचपन से जुड़ी थी और राम रहीम की बेटी होने पर खुद को सौभाग्यशाली मानती है।

वकील के दावे के बाद मचा हड़कंप –

बता दें कि दिल्ली ने हनीप्रीत के वकील द्वारा किए गए दावे के बाद हरियाणा पुलिस में हड़कंप मच गया। इसके बाद पुलिस तुरंत सक्रिय हो गई। आनन-फानन में पंचकूला पुलिस की एक टीम को गिरफ्तारी वारंट के साथ दिल्‍ली भेजा गया। बताया जाता है कि पुलिस को हनीप्रीत के दिल्‍ली के ग्रेटर कैलाश के एक मकान ए-9 में होने की सूचना‍ मिली। पुलिस टीम ने वहां छापा मारा, लेकिन हनीप्रीत नहीं मिली।

इससे पहले डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की गोद ली बेटी हनीप्रीत को गिरफ्तार करने में असफल रहने के बाद हरियाणा पुलिस ने पंचकूला की एक कोर्ट ने उसकी गिरफ्तारी का वारंट जारी कराया। एसआईटी की याचिका पर कोर्ट ने हनीप्रीत के अलावा डॉ. आदित्य इंसां और पवन इंसां के खिलाफ भी दंगे करवाने के मामले में गिरफ्तारी वारंट जारी किए।

भगोड़ा घोषित करने के लिए लगाई जाएगी याचिका –

पंचकूला के पुलिस कमिश्रर एएस चावला ने बताया कि तीनों के खिलाफ अक्टूबर के अंत तक के वारंट जारी करवाए गए हैं। यदि हनीप्रीत नहीं मिली तो उसे भगोड़ा घोषित करवाने के लिए याचिका लगाई जाएगी। गौरतलब है कि हनीप्रीत के खिलाफ पंचकूला में देशद्रोह का मामला दर्ज है। उसकी तलाश के लिए पहले ही लुकआउट नोटिस भी जारी किया जा चुका है। इसके पहले भी उसके जयपुर में होने की सूचना मिली थी।

नेपाल में होने की थी खुफिया एजेंसियों को जानकारी –

खुफिया एजेंसियों को सूचना मिली थी कि हनीप्रीत नेपाल में है। इसी के मद्देनजर भारत से लगने वाली नेपाल सीमा पर गहन छानबीन हुई। सीमा पर हनीप्रीत की फोटो भी चस्पा कर दी गई है। वहीं राजस्थान में रेड से पहले ही हनीप्रीत अपना सामान पैक कर वहां से फरार हो गई थी। पुलिस ने गर्ल्स हॉस्टल में रेड की, लेकिन उसके हाथ कुछ नहीं लगा।

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*