आने वाले 5 साल में बदल जाएगी टेलीकॉम की दुनिया : TRAI

नई दिल्ली। रिलायंस जियो की लांचिंग के बाद से देश में आई डाटा क्रांति आने वाले वर्षों में और तेजी से विस्तार लेगी। विस्तार को गति और दिशा देने के लिए सरकार राष्ट्रीय टेलीकॉम नीति (एनटीपी) तैयार कर रही है।

सरकार का लक्ष्य 2022 के अंत तक देश में वायरलेस इंटरनेट की स्पीड कम से कम 20 एमबीपीएस करने और एक करोड़ सार्वजनिक वाई-फाई हॉट स्पॉट लगाने का है।

दूरसंचार नियामक ट्राई ने इस नीति पर परामर्श पत्र बुधवार को जारी किया। इस पर 19 जनवरी तक जनता की राय मांगी गई है।

ट्राई विभिन्न बिंदुओं पर जनता की राय लेने के बाद दूरसंचार विभाग के समक्ष अपने निष्कर्ष रखेगा। विभाग मार्च, 2018 तक एनटीपी को अंतिम रूप दे सकता है।

नियामक ने बताया कि टेलीकॉम ऑपरेटरों, हैंडसेट निर्माताओं, उद्योग संगठनों और क्लाउड सेवा प्रदाताओं समेत अन्य संबंधित पक्षों से बातचीत के आधार पर ट्राई ने नीति के लिए कुछ प्रस्ताव तैयार किए हैं।

ये प्रस्ताव सेक्टर में तकनीकी उन्नयन और डिजिटल सेवाओं को लेकर उपभोक्ताओं की उम्मीदों को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं।

ट्राई के परामर्श पत्र में ब्रॉडबैंड कनेक्शन की स्पीड कम से कम दो एमबीपीएस करने, एक करोड़ सार्वजनिक वाई-फाई हॉट स्पॉट बनाने, वायरलेस इंटरनेट कनेक्टिविटी में कम से कम 20 एमबीपीएस की औसत स्पीड प्रदान करने

और भारत को नेटवर्क रेडीनेस, संचार व्यवस्था और सेवा के मामले में दुनिया के टॉप 50 देशों में शामिल करने को एनटीपी के लक्ष्यों के तौर पर दर्शाया गया है।

इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आइओटी) और मशीन-टू-मशीन के दस अरब सेंसर और डिवाइसों को जोड़ने और उन तक इंटरनेट की मदद से पहुंच बनाने जैसी सुविधाएं विकसित करना भी नीति के उद्देश्यों में शुमार है।

एनटीपी की मदद से कम्युनिकेशन सेक्टर में 100 अरब डॉलर (करीब 6.40 लाख करोड़ रुपये) का निवेश भी आकर्षित करने का प्रयास रहेगा।

ट्राई के परामर्श पत्र में कहा गया है कि लाइसेंस व स्पेक्ट्रम शुल्क की समीक्षा और एक देश-एक लाइसेंस की दिशा में कदम बढ़ाने से लक्ष्य हासिल करने में मदद मिलेगी।

सड़क और रेल जैसे इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टरों की तरह ही टेलीकॉम सेक्टर में भी इन्फ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं के लिए पैसे की व्यवस्था करने की जरूरत पर ट्राई ने जोर दिया है।

नियामक ने कहा कि इस नीति से दो तरह के लक्ष्य हासिल किए जा सकते हैं। पहला, समावेशी सामाजिक-आर्थिक विकास के लिए कम्युनिकेशन इन्फ्रास्ट्रक्चर के विकास को गति देना।

दूसरा, चौथी औद्योगिक क्रांति में भारत को अगुआ बनाने की दिशा में कदम बढ़ाना। एनटीपी की मदद से इस मिशन को और इन लक्ष्यों को 2022 तक पूरा किया जा सकता है।

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*