दिल्ली में मदरसे में दुष्कर्म मामले में मौलवी गिरफ्तार

नई दिल्ली। दिल्ली में गाजीपुर इलाके से अगवा दस साल की मासूम के साथ साहिबाबाद के मदरसे में हुए दुष्कर्म के मामले में दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने शुक्रवार शाम मदरसे के मौलवी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने इससे पहले नाबालिग आरोपित को पकड़ा था। अपराध शाखा के संयुक्त आयुक्त आलोक कुमार ने बताया कि मदरसे के मौलवी गुलाम शाहिद (34) की गिरफ्तारी पॉक्सो एक्ट में की गई है।

अपराध शाखा के सूत्रों ने बताया कि जांच में पता चला है कि पीड़िता को मदरसे में रखने की जानकारी मौलवी को भी थी। उसने नाबालिग आरोपित को फोन पर कुछ निर्देश भी दिए थे। यही नहीं, 24 घंटे से अधिक समय तक मासूम को मदरसे में छिपाकर रखा, लेकिन मौलवी ने न तो मासूम के परिजनों और न ही पुलिस को इसकी सूचना दी। ऐसे में इस अपराध में वह सहयोगी था। मामले में अन्य लोगों की भूमिका की भी जांच की जा रही है।

भारी विरोध प्रदर्शन के बीच गुरुवार को अपराध शाखा की टीम गाजियाबाद के हिडन विहार स्थित मदरसे में जांच के लिए पहुंची थी। यहां मौलवी का मोबाइल फोन और कुछ दस्तावेज अपराध शाखा की टीम ने जब्त किए थे। शुक्रवार को फिर से अपराध शाखा की टीम मदरसा पहुंची और पूछताछ के लिए मौलवी गुलाम शाहिद को अपने साथ दिल्ली लेकर आ गई। यहां पूछताछ के बाद शाम को अपराध शाखा ने मौलवी को गिरफ्तार कर लिया।

पीड़िता ने मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान में आरोप लगाया था कि कुछ अन्य लोगों ने भी उसके साथ छेड़छाड़ की थी। पुलिस उनकी भी पहचान की कोशिश कर रही है। इसके लिए मौलवी व नाबालिग आरोपित की कॉल डिटेल भी निकलवाई जा रही है। इस मामले में पकड़े गए नाबालिग की उम्र को लेकर अपराध शाखा आश्वास्त नहीं है। पुलिस उसका बोन टेस्ट करा सकती है।

बता दें कि 21 अप्रैल को एक नाबालिग किशोर ने पीड़िता को अगवा कर लिया था। अगले दिन पुलिस को पीड़िता साहिबाबाद के मदरसे में पहली मंजिल के कमरे में चटाई में लिपटी हुई मिली थी। इस मामले को लेकर लोगों ने काफी आक्रोश जाहिर किया था। इसके बाद मामले की जांच अपराध शाखा को सौंप दी गई थी। गुरुवार को पीड़ित परिवार दिल्ली पुलिस आयुक्त से भी मिला था।

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*