दिव्यांगजनों की सेवा भगवान की पूजा के समान – मुख्यमंत्री श्री चौहान

उज्जैन में मुख्यमंत्री द्वारा एलिम्को के उत्पादन केन्द्र की नई ब्रांच का लोकार्पण

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने आज उज्जैन में भारतीय कृत्रिम अंग निर्माण निगम (एलिम्को) की सहायक उत्पादन इकाई का उद्घाटन किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि दिव्यांगजनों की सेवा भगवान की पूजा के समान है। उज्जैन को बड़ी सौगात मिली है, इससे स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा। साथ ही दिव्यांगजनों के आर्थिक और सामाजिक उत्थान के साथ उन्हें उपकरण उपलब्ध हो सकेंगे।

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि केन्द्रीय सामाजिक न्याय विभाग द्वारा देश के साथ प्रदेश में भी दिव्यांगजनों को योजनाओं का लाभ पहुँचाया जा रहा है। केन्द्रीय मंत्री श्री थावरचन्द गेहलोत की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि समय-सीमा में सहायक उत्पादन केन्द्र का निर्माण कर उपकरण तैयार करने का कार्य आज से प्रारंभ हो गया है। मुख्यमंत्री ने उज्जैन के जागरूक जन-प्रतिनिधियों की तारीफ की। उन्होंने कहा कि धरती पर रहने वाले हर इंसान को समान अधिकार मिले, इसी लक्ष्य को लेकर मध्य प्रदेश सरकार सामाजिक सुरक्षा के अनेक कार्य कर रही हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ब्रांच के अवलोकन के दौरान मोटराइज्ड ट्रायसिकल चलाकर भी देखी।

केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री थावरचन्द गेहलोत ने कहा कि उन्होंने पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ. सत्यनारायण जटिया के अधूरे सपने को साकार किया है। देश में पांचवीं एलिम्को की ब्रांच उज्जैन में खोली गई है। इस ब्रांच में दिव्यांगजनों के लिए आधुनिकतम उपकरणों को तैयार किया जाकर उन्हें वितरित किया जाएगा। इसके लिए जर्मनी से एम.ओ.यू. किया गया है। ब्रिटेन की संस्था के साथ भी समन्वय स्थापित कर आधुनिक उपकरणों का काम किया जाएगा। उज्जैन की ब्रांच में 07 प्रकार के उपकरण बनाए जायेंगे। सांसद प्रो.चिन्तामणि मालवीय एवं राज्यसभा सांसद डॉ. सत्यनारायण जटिया ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया।

प्रारंभ में केन्द्रीय सामाजिक न्याय विभाग के डॉ.प्रबोध सेठ ने एलिम्को के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इसके पूर्व अतिथियों ने नई ब्रांच का विधिवत उद्घाटन कर अवलोकन किया।

मुख्यमंत्री ने चलाई मोटराइज्ड ट्रायसिकल

कार्यक्रम स्थल पर एन.एच.एफ.डी.सी द्वारा लगाये गये रोजगार मेले में 30 कम्पनियों ने भाग लिया। मेले में 350 दिव्यांगजनों ने रोजगार के लिए पंजीयन कराया, जिनमें से 124 दिव्यांगजन रोजगार के लिए शार्टलिस्ट हुए। अतिथियों ने दिव्यांगजनों को उपकरण भेंट किए। दिव्यांगजनों को स्व-रोजगार के लिए सिलाई मशीन, ऋण पत्र और मोटराइज्ड ट्रायसिकल का वितरण भी किया।

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*