अच्छी बारिश के लिए रुपाणी सरकार ने बनाया ‘वैदिक प्लान’

 अहमदाबाद 
एक ओर जहां सूर्य का तेज बढ़ता जा रहा है और जल संसाधन सूखते जा रहे हैं, वहीं दूसरी ओर गुजरात सरकार आगामी मॉनसून में अच्छी बारिश के लिए ‘दैवीय कृपा’ पाने के लिए वैदिक काल में अपनाए जाने वाले रास्ते का प्रयोग करने जा रही है। बढ़िया मानसून के लिए गुजरात की रुपाणी सरकार ने 31 मई को 33 जिलों में 41 ‘पर्जन्य यज्ञ’ करवाने का फैसला लिया है। 

साथ ही राज्य के 8 प्रमुख शहरों में भी वर्षा के देवता इंद्र देव और पानी के देवता वरुणदेव को खुश करने के लिए यज्ञ का आयोजन किया जाएगा। गुजरात सरकार के द्वारा एक महीने के लिए चलाए जा रहे ‘सुजलाम सुफलाम जल अभियान’ का समापन ‘पर्जन्य यज्ञ’ द्वारा किया जाएगा। इस ड्राइव के जरिए डी-स्लिट और नदियों, झीलों, तालाबों, कैनल और जल निकायों को आने वाले मॉनसून सीजन में गहरा किया जाने का काम किया जा रहा है। बुधवार को हुई कैबिनेट की बैठक में इस अभियान का समापन यज्ञ से करने का फैसला लिया गया। 

भीषण गर्मी से जूझ रहे लोग 
राज्य के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा, ‘सरकार ने अच्छे मॉनसून के लिए 31 मई को पर्जन्य यज्ञ का आयोजन करने का फैसला किया है। यह यज्ञ पूरे गुजरात में 41 स्थानों पर किए जाएंगे और यज्ञ समाप्त होने के बाद प्रसाद वितरित किया जाएगा। मैं, सीएम विजय रुपाणी, राज्य के मंत्री और वरिष्ठ अधिकारी इन यज्ञों में हिस्सा लेंगे। जिसमें हम लोगों के साथ बातचीत भी करेंगे।’ 

आपको बता दें कि गुजरात इस भीषण गर्मी में पानी की कमी से जूझ रहा है। राज्य के 204 बांधों में अपनी भंडारण क्षमता 25,227 एमसीएम (मिलियन क्यूबिक मीटर) का केवल 29 प्रतिशत पानी बचा हुआ है। 2019 में लोकसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में रुपाणी सरकार को डर है कि मॉनसून में देरी या पानी की कमी से लोगों में असंतोष फैल सकता है जिसकी वजह से इसका असर चुनाव नतीजों पर पड़ेगा। 


Source: khabar1

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*