2019 में NDA की सीटें घटेंगी, लेकिन फिर मोदी सरकार: सर्वे

नई दिल्ली 
वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र सरकार को घेरने के लिए एक ओर जहां देश की विपक्षी पार्टियां महागठबंधन की राह प्रशस्त करने में जुटी हुई हैं, वहीं भारतीय जनता पार्टी भी सत्‍ता बरकरार रखने के लिए जवाबी रणनीति बनाने में जुट गई है। इस बीच केंद्र सरकार के 4 साल पूरे होने के बाद किए गए एक सर्वे में निकलकर सामने आया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वर्ष 2019 में फिर एक बार सरकार बनाएंगे। एबीपी न्यूज-लोकनीति-सीएसडीएस के इस सर्वे में पीएम नरेंद्र मोदी को सबसे लोकप्रिय नेता माना गया है, वहीं राहुल गांधी की लोकप्रियता में इजाफा हुआ है। सर्वे के मुताबिक उत्तर, पश्चिम और मध्य भारत के हिस्सों में बीजेपी को नुकसान होता दिखाई दे रहा है, लेकिन इन सब के बावजूद एनडीए की केंद्र में वापसी होगी।  

एबीपी न्यूज और सीएसडीएस के इस सर्वे में बीजेपी को पूर्वी भारत में जबरदस्त फायदा मिलने का अनुमान लगाया गया है, जबकि क्षेत्रीय पार्टियों के गठबंधन को उत्तर भारत और दक्षिण के कुछ राज्यों में बढ़त मिलने की बात कही जा रही है। सर्वे में 2019 के लोकसभा चुनाव में एनडीए को करीब 37 फीसदी, यूपीए को 31 फीसदी और अन्य पार्टियों को 32 फीसदी वोट मिलने का अनुमान लगाया जा रहा है। सीटों के आंकड़े की बात करें तो लोकसभा चुनाव में एनडीए को 274, यूपीए को 164 और अन्य दलों को 105 सीट मिलने का अनुमान लगाया गया है। इसके साथ ही चुनाव से पहले सर्वे में राहुल गांधी की लोकप्रियता में इजाफा होने की भी बात सामने आई है। 

राहुल गांधी की लोकप्रियता में हुआ इजाफा

यूपी में महागठबंधन को हो सकता है फायदा 
सर्वे के मुताबिक देश के सबसे बड़े सूबे यूपी में महागठबंधन होने की स्थिति में एनडीए को 8 फीसदी वोट शेयर का नुकसान होते दिख रहा है। 2014 के चुनाव में करीब 43 फीसदी वोट हासिल करने वाले एनडीए को हाल की स्थिति में होने वाले लोकसभा चुनाव के दौरान 35 फीसदी वोट मिलने की बात कही जा रही है, जिसके कारण उसे करीब 8 फीसदी वोट का नुकसान होता दिख रहा है। सर्वे में एनडीए को 35%, यूपीए को 12% और अन्य (एसपी-बीएसपी-अन्य दल) को करीब 53% वोट मिलने की बात कही जा रही है। वहीं सर्वे में बीजेपी को गोरखपुर और फूलपुर में हुई हार के कारण नुकसान होता भी दिख रहा है। वहीं दूसरी ओर सर्वे में महागठबंधन की स्थिति में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी को करीब 4 फीसदी वोट का फायदा मिलता दिख रहा है। 

उत्तर भारत में 44 सीट के नुकसान की आशंका 
यूपी में एनडीए को होने वाले नुकसान की स्थिति का असर समूचे उत्तर भारत पर होने की उम्मीद जताई जा रही है। महागठबंधन की स्थिति में उत्तर भारत में एनडीए को करीब 44 सीटों का नुकसान होगा। उत्तर भारत में एनडीए को 39 फीसदी, यूपीए को 21 फीसदी और अन्य को करीब 40 फीसदी वोट मिलने की बात कही जा रही है। यूपी के अलावा राजस्थान में भी एनडीए को 10 फीसदी वोट शेयर का नुकसान होता दिख रहा है। 2014 के 55 फीसदी वोट की अपेक्षा इस चुनाव में एनडीए को करीब 45 फीसदी वोट मिल सकता है। इसके अलावा यूपीए को 12 फीसदी फायदे के साथ करीब 30 फीसदी वोट मिलने का अनुमान है। 

बिहार और बंगाल में मोदी-मैजिक 
एबीपी न्यूज और सीएसडीएस-लोकनीति के सर्वे में बीजेपी को पूर्वी भारत की 142 सीटों में 90 से ज्यादा सीट मिलने का अनुमान लगाया गया है। सर्वे के मुताबिक 2019 के चुनाव में एनडीए को पूर्वी भारत की 142 सीटों में 86-94 सीटें मिल सकती हैं। इसके अलावा यूपीए के खाते में 22-26 जबकि अन्य को 26-30 सीट मिलने का अनुमान लगाया गया है। ऐसे में पूर्वी भारत में 2014 के चुनाव की अपेक्षा इस बार 32 सीटों का फायदा होता नजर आ रहा है। बड़ी बात यह कि पूर्वी भारत में चुनाव की स्थितियां पिछले बार से भिन्न भी हैं। पिछले चुनाव में बीजेपी के विरोधी रहे नीतीश कुमार इस बार एनडीए गठबंधन के साथ हैं, जबकि बिहार की सत्ता के दूसरे ध्रुव कहे जाने वाले लालू प्रसाद यादव जेल में हैं। माना जा रहा है कि नीतीश के साथ आने का असर बीजेपी के वोट शेयर पर भी पड़ सकता है और इसका सीधा परिणाम लोकसभा चुनाव के रिजल्ट पर भी दिखेगा। 

पूर्वी भारत में मजबूत हुई बीजेपी, बिहार में बढ़त 
इसके अलावा पूर्वी भारत में एनडीए को पश्चिम बंगाल की तमाम सीटों पर बढ़त भी मिलती दिख रही है। सर्वे में लोकसभा चुनाव के दौरान एनडीए को करीब 24 फीसदी वोट मिलने का अनुमान लगाया गया है। वहीं यूपीए को 11 फीसदी और अन्य पार्टियों के खाते में करीब 65 फीसदी वोट जाते दिख रहे हैं। चूंकि 2014 के चुनाव में एनडीए को पश्चिम बंगाल में 17 फीसदी वोट ही मिले थे, ऐसे में इस चुनाव में वोट प्रतिशत का बढ़ना बीजेपी की खुशी की वजह जरूर बन सकता है। हालांकि सर्वे में अब भी पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी को ही सबसे ज्यादा वोट मिलने की बात कही जा रही है। 

पश्चिम और मध्य भारत में 70 से अधिक सीट का अनुमान 
पूर्वी भारत के साथ-साथ पश्चिम और मध्य भारत में भी लोकसभा की 118 सीटों में से एनडीए को 70 से ज्यादा सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है। वहीं यूपीए को इन क्षेत्रों में 41 से 47 सीट मिलने की बात कही जा रही है। पूर्व और मध्य भारत के राज्यों में करीब करीब सभी पर बीजेपी का कब्जा है, इसके बाद भी इन इलाकों में बीजेपी को 34 सीटों का नुकसान होने की बात कही जा रही है। इनमें मुख्य रूप से मध्य प्रदेश में एनडीए को ज्यादा नुकसान हो


Source: khabar1

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*