मानसून सत्र में लाया जाएगा लाड़ली लक्ष्मी कानून : शिवराज 

भोपाल
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि महिलाओं का आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक सशक्तिकरण होना जरूरी है। भाजपा सरकार ने इस दिशा में काम किया है और यही कारण है कि बहनों और बेटियों का समर्थन पार्टी को मिला है। मध्यप्रदेश की धरती पर जन्म लेने वाली बेटी अब लाडली लक्ष्मी योजना से लखपति बनती है। अब तक मध्यप्रदेश में 27 लाख परिवारों में बेटियां लाड़ली लक्ष्मी बनी है। इस मानसून सत्र में लाडली लक्ष्मी कानून कानून लाया जायेगा। ताकि यह योजना कानून में तब्दील हो और बेटियों को इसका लाभ निरंतर मिलता रहे।  महिला मोर्चा आधी आबादी के इस समर्थन के आधार पर निश्चित तौर पर चौथी बार सरकार बनायेगा। इस बार का चुनाव महिला मोर्चा लडेगा और जीतने की जिम्मेदारी भी महिला मोर्चा की है। बहनें घर-घर जाए और अलख जगाने का काम करें। 
यह बात चौहान ने मुख्यमंत्री निवास पर महिला मोर्चा द्वारा आयोजित विजय संकल्प सम्मेलन को संबोधित करते हुए कही। सम्मेलन में पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व सांसद प्रभात झा, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष विजया राहटकर, मोर्चा प्रदेश प्रभारी कृष्णा गौर, प्रदेश अध्यक्ष लता ऐलकर विशेष रूप से उपस्थित थी।
चौहान ने कहा कि भाजपा सरकार की अगर कोई योजना बनी है तो पहली प्राथमिकता बहन और बेटियों को दी है। किस प्रकार माता और बहनों का दुख दूर हो। इस विनम्र कोशिश और भाव से योजनाओं का क्रियान्वयन हुआ है। एक समय था जब प्रदेश में बेटा और बेटियों में भेदभाव किया जाता था। हमारी सरकार ने बेटियों के जन्म को उत्साह और उमंग से भरा है। महिला मोर्चा कार्ययोजना बनाकर लाड़ली लक्ष्मी परिवारों से संपर्क करे। उन्हें अपने साथ जोड़े और हितग्राहियों को योजना का बराबर लाभ मिले, इस बात की चिंता करें। उन्होंने कहा कि महिलाओं के सशक्तिकरण और उन्हें आर्थिक रूप से संबल प्रदान करने के लिए मध्यप्रदेश एकमात्र ऐसा राज्य है जहां महिलाओं के लिए सर्वाधिक योजनाएं बनायी है। मध्यप्रदेश पहला राज्य है जहां महिलाओं को स्थानीय निकायों एवं पंचायतों में 50 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है। उन्होंने कहा कि अवसर मिलने पर महिलाएं पूरी क्षमता, प्रतिभा और दक्षता के साथ शासन प्रशासन का काम कर सकती है।
चौहान ने कहा कि हम राजनीति में सत्ता के शिखर पर बैठने के लिए नहीं और न सिर्फ सरकार बनाने के लिए चुनाव लडते है। हम सत्ता को सेवा का माध्यम मानते है। विकास का रथ आगे बढ़े, किसानों का सम्मान हो, मां, बहन, बेटियों का सशक्तिकरण हो, इसके लिए हम चौथी बार सरकार बनायेंगे। चुनाव की लडने की जिम्मेदारी और जीतने की जिम्मेदारी महिला मोर्चा की है। उन्होंने 51 जिलों में सम्मेलन होना है, उनमें हितग्राही और लाभार्थी बहनों को मोर्चा की बहनें आमंत्रित करें। भव्यता के साथ सम्मेलन हो। इसकी तैयारी में मोर्चा जुट जाए। 2019 में श्री नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के साथ 2018 में मध्यप्रदेश में चौथी बार 200 पार संकल्प पूरा करना है।

 मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष विजया राहटकर ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान ने मध्यप्रदेश में महिला केन्द्रित योजनाओं से महिला सशक्तिकरण का मॉडल प्रस्तुत किया है। कांग्रेस अशांति और असंतोष फैलाना चाहती है, लेकिन हम विकास यात्रा लेकर निकले है। काम के आधार पर हम जनता के बीच जायेंगे। सरकार की योजनाओं को घर-घर तक ले जायेंगे। 
मोर्चा की प्रदेश प्रभारी व प्रदेश मंत्री कृष्णा गौर ने कहा कि मध्यप्रदेश में आज महिलाएं आत्मसम्मान से जीवन यापन कर रही है। भाजपा सरकार की महिला हितैषी योजनाओं ने बहनों को मुख्य धारा से जोड़ने का काम किया है। उन्होंने उपस्थित बहनों को अबकी बार 200 पार का संकल्प दिलाते हुए कहा कि ‘‘मातृशक्ति ने भरी हुंकार चौथी बार शिवराज सरकार’’।
इस अवसर पर मंत्री कुसुम मेहदेले, माया सिंह, अर्चना चिटनीस, ललिता यादव, मोर्चा की राष्ट्रीय मंत्री सुखप्रीत कौर मंचासीन थी। 

 


Source: SAMACHARTODAY

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*