लगातार 154वां टेस्ट खेलकर कुक ने बॉर्डर को पीछे छोड़ा

कुक ने भारत के खिलाफ नागपुर में एक से पांच मार्च 2006 के बीच खेले गए मैच से टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया था और उस मैच में शतक भी जड़ा था। लेकिन बीमार होने के बाद वह सीरीज के आखिरी टेस्ट मैच में नहीं खेल पाए थे। कुक ने इसके बाद हालांकि इंग्लैंड की तरफ से प्रत्येक टेस्ट मैच खेला। उनके नाम पर हेडिंग्ले टेस्ट शुरू होने से पहले तक 155 मैचों में 12099 रन दर्ज थे, जिसमें 32 शतक भी शामिल हैं। बॉर्डर ने जब अपना 153वां टेस्ट मैच खेला था तब वह 38 साल के थे जबकि कुक अभी 33 साल के हैं। 

लार्ड्स टेस्ट मैच में कुक ने पहली पारी में 70 रन बनाए लेकिन दूसरी पारी में वह केवल एक रन बनाकर आउट हो गये थे। पाकिस्तान ने यह टेस्ट 9 विकेट से जीतकर दो मैचों की श्रृंखला में 1-0 की बढ़त बनाई। लगातार टेस्ट मैच खेलने के रेकॉर्ड के मामले में कुक और बॉर्डर के बाद ऑस्ट्रेलिया के मार्क वॉ (107), भारतीय दिग्गज सुनील गावसकर (106) और न्यू जीलैंड के ब्रैंडन मैकुलम (101) का नंबर आता है। मैकुलम अपने करियर में पदार्पण के बाद संन्यास लेने तक कभी किसी टेस्ट मैच से बाहर नहीं रहे। इसी तरह से ऐडम गिलक्रिस्ट ने भी अपने पदार्पण के बाद लगातार 96 टेस्ट मैच खेलकर क्रिकेट के इस प्रारूप को अलविदा कहा। हाल में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने वाले एबी डिविलियर्स ने पदार्पण के बाद लगातार 98 टेस्ट मैच खेले लेकिन बेटे के जन्म के कारण इसके बाद वह एक टेस्ट मैच में नहीं खेल पाए थे। उन्होंने कुल 114 टेस्ट मैच खेले। 


Source: SAMACHARTODAY

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*