आधी रात को खत्म हुई नर्सों की हड़ताल, सरकार ने कल तक काम पर लौटने का दिया था अल्टीमेटम

रायपुर
 राज्य गठन के बाद नर्सों का सबसे बड़ा आंदोलन भले ही 16 दिन में बगैर मांग पूरी हुए बगैर खत्म हो गया हो, लेकिन इनकी एकजुटता ने पूरे स्वास्थ्य महकमे को हिलाकर रख दिया, क्योंकि मेडिकल कॉलेजों से लेकर जिला अस्पताल तक का कामकाज लगभग ठप हो गया था, लेकिन 72 घंटे में इनकी ज्वाइनिंग के बाद फिर से एक बार स्थिति पटरी पर लौटेगी।

शनिवार रात गिरफ्तारी के 36 घंटे बाद जेल से छूटी नर्सें अपने परिजनों को गले लगाकर रो पड़ीं। किसी ने अपने बच्चों को चूमा तो किसी ने माता-पिता का आशीर्वाद लिया। ये बेहद ही भावुक क्षण थे, न सिर्फ नर्सों के लिए, बल्कि उनके अपनों के लिए भी, जो लगातार इनकी रिहाई के इंतजार में जेल के बाहर नजरें गड़ाए हुए थे।

यह तो थी नर्सों की बात, लेकिन शुक्रवार सुबह 11 बजे से लेकर शनिवार रात नर्सों की रिहाई तक इनके बच्चे भी अपना मां को देखने के लिए तरस गए। दादा-दादी,नाना-नानी बच्चों को गोदी में लेकर जेल के बाहर थे, ताकि एक बार वे अपनी मां को देख सकें। कई बच्चे तो रोते-बिलखते रहे। अब मां तो मां होती है और बच्चे तो बच्चे…।

खुले आसमान के नीचे बीती रात- नर्सों के लिए यह आंदोलन किसी जंग से कम नहीं था। पहले धरना स्थल पर 42-44 डिग्री तापमान पर खुले आमसान के नीचे बैठना, उसके बाद गिरफ्तारी और फिर रात खुले आसमान के नीचे बीताना, वास्तव में साहस का काम है।यहां पर इनके लिए टॉयलेट की प्रॉपर बंदोबस्त नहीं थे। रात में महिला जेल के बाहर बनी सड़क पर कोई सोया तो कोई पानी के टंकी के नीचे। मच्छरों ने भी हलाकान किया, लेकिन ये डटी रहीं।

फिडिंग के लिए बच्चों को पहुंचाया गया अंदर

जिन नर्सों के बच्चे छोटे-छोटे थे, उन्हें फिडिंग (स्तनपान) के लिए जेल प्रशासन ने स्पेशल मंजूरी देते हुए अंदर भिजवाया था। हालांकि कुछ देर बाद बताया जा रहा है कि उस पर रोक लगा दी गई थी। कुछ नर्सों ने इस पर विरोध जताया था।

सभी एकजुट हैं

हमें उम्मीद है कि सरकार मांगें पूरी करेगी। 45 दिन का समय है, अगर मांग पूरी नहीं होती है तो फिर संघ के सभी पदाधिकारियों के साथ बैठकर आगे की कार्ययोजना बनाई जाएगी। सभी नर्सों ने एकजुटता साबित की है।- देवश्री सॉव, अध्यक्ष, छत्तीसगढ़ परिचारिका कर्मचारी संघ


Source: SAMACHARTODAY

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*