वापसी को लेकर म्यामां और UN के बीच हुआ समझौता, 700,000 के लिए राहत की खबर

यंगून
म्यामां और संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों ने आज एक समझौते पर हस्ताक्षर किए जिसने  म्यामां में सुरक्षा बलों के अत्याचार के चलते देश छोड़कर चले गए 700,000 रोहिंग्या मुस्लिमों को राहत दे दी। रोहिंग्या की वापसी को लेकर म्यामां और UN के बीच करार हो गया है। इस सहमतिपत्र में एक ‘‘सहयोग की रूपरेखा’’ बनाने पर सहमति बनी है जिसका उद्देश्य रोहिंग्या शरणार्थियों की ‘‘स्वैच्छिक, सुरक्षित, सम्मानित और स्थायी’’ वापसी के लिए स्थितियां निर्मित करना है।          

म्यामां के सुरक्षा बलों पर पश्चिमी रखाइन प्रांत में बलात्कार, हत्या, प्रताडऩा और रोहिंग्या के घरों को जलाने के आरोप हैं जहां अधिकतर रोहिंग्या रहते थे। संयुक्त राष्ट्र और अमरीका ने गत वर्ष अगस्त में शुरू हुई कार्रवाई को ‘‘जातीय सफाया’’ करार दिया था। म्यामां और बांग्लादेश गत नवम्बर में रोहिंग्या की स्वदेश वापसी शुरू करने पर सहमत हुए थे।  म्यामां में संयुक्त राष्ट्र के रेजीडेंट एंड ह्यूमैनिटैरियन कोआॢडनेटर के. ओस्तबी ने कहा कि यह समझौता इस संकट के समाधान में पहला महत्वपूर्ण कदम है। 


Source: SAMACHARTODAY

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*