‘हज यात्री उपभोक्ता नहीं, पैसे वापसी का दावा नहीं कर सकते’: शीर्ष उपभोक्ता आयोग

नई दिल्ली 
शीर्ष उपभोक्ता आयोग ने कहा है कि हज यात्री उपभोक्ता नहीं हैं। आयोग ने यह बात एक व्यक्ति और उसके बेटे को राहत देने से इनकार करते हुए कही, जिन्होंने यह दावा करते हुए धन वापसी की मांग की थी कि भारतीय हज कमेटी ने 2008 में निम्न श्रेणी की सेवाएं मुहैया कराई जबकि उन्होंने उच्च श्रेणी की सेवा के लिए भुगतान किया था। राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग (एनसीडीआरसी) ने कहा कि हज कमेटी बिना किसी लाभ के इरादे से सेवाएं मुहैया कराती है।

आयोग ने कहा कि इसलिए यह देखा जाता है कि हज कमेटी अपनी सेवाएं बिना किसी लाभ के इरादे से मुहैया कराती है और वह हज यात्रियों के लिए व्यवस्थाएं करने में होने वाले वास्तविक खर्च वसूल करती है। आयोग भारतीय हज कमेटी की एक अर्जी पर सुनवाई कर रहा था जो उसने राजस्थान राज्य आयोग के उस आदेश के खिलाफ दायर की थी जिसमें उसे अब्बास अली और उसके बेटे फैयाज हुसैन को क्षतिपूर्ति करने को कहा गया था। दोनों ने 2008 में हज यात्रा के लिए आवेदन किया था और ‘ग्रीन कैटेगरी’ का चयन किया था जो कि उच्च श्रेणी की सेवा है।  


Source: SAMACHARTODAY

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*