कॉलेजों के प्राध्यापकों को 30 नहीं, अब सिर्फ 20 दिन की मिलेगी गर्मी छुट्टी

रायपुर
 छत्तीसगढ़ उच्च शिक्षा विभाग ने सत्र 2018-19 में प्राध्यापकों को मिलने वाले ग्रीष्मकालीन अवकाश में कटौती कर दी है। पिछले साल इन्हें 30 दिन का अवकाश मिलता था, जिसे अब घटाकर 20 दिन कर दिया गया है। उच्च शिक्षा विभाग ने अकादमिक कैलेंडर जारी कर दिया है।

चार पहले तक इन्हें 45 दिन का अवकाश मिलता था। तब से अब तक 24 छुट्टियां घटी हैं। छुट्टी घटाने से प्राध्यापकों में आक्रोश है। वहीं कुछ शिक्षाविदों का कहना है कि कॉलेज स्तर पर सेमेस्टर सिस्टम प्रभावित न हो इसलिए उच्च शिक्षा ने यह कदम उठाया है।

इतनी मिलेंगी छुट्टियां

दशहरा अवकाश – चार दिन (18 से 21 अक्टूबर 2018 तक)

दीपावली अवकाश- पांच दिन (06 से 10 नवम्बर 2018 तक)

शीतकालीन अवकाश – चार दिन (24 से 27 दिसम्बर 2018 तक)

ग्रीष्मकालीन अवकाश – 20 दिन (16 मई से 04 जून 2019 तक)

सात घंटे की ड्यूटी अनिवार्य

उच्च शिक्षा विभाग ने प्राध्यापकों के लिए सात घंटे की ड्यूटी अनिवार्य कर दी है। पहली पाली में आने वालों के लिए सुबह 7ः30 से दोपहर 2ः30 बजे तक कॉलेज में पठन-पाठन अनिवार्य कर दिया गया है। द्वितीय पाली वालों को सुबह 10ः30 से 5ः30 बजे तक कॉलेज में रहना अनिवार्य है। छह घंटे प्रायोगिक, ट्यूटोरियल, रेमेडियल, शोध कार्य, लाइब्रेरी वर्क आदि कराना अनिवार्य है।

30 जून तक दाखिला प्रक्रिया अनिवार्य

अकादमिक कलेंडर के मुताबिक विवि-कॉलेजों में प्रवेश के लिए एक से 30 जून तक प्रक्रिया करना अनिवार्य है। 31 जुलाई तक कुलपति की अनुमति पर दाखिला दिया जा सकता है।


Source: SAMACHARTODAY

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*