OPEC मीटिंग के बाद 6% चढ़ा क्रूड, महंगे हो सकते हैं पेट्रोल-डीजल!

प्रमुख तेल निर्यातक देशों के समूह ओपेक के 10 लाख बैरल प्रति दिन उत्पादन बढ़ाने पर राजी होने के बावजूद क्रूड की कीमतों में 6 फीसदी तक की बढ़त दर्ज की गई। क्रूड में नवंबर, 2016 के बाद यानी 20 महीनों की सबसे बड़ी तेजी है। ऐसी अाशंकाएं हैं कि भारत में एक बार फिर पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी हो सकती है। ऐसे में तेल कंपनियों पर कीमतें बढ़ाने का प्रशर बढ़ सकता है। 

ओपेक देश रोजाना 10 लाख बैरल उत्पादन बढ़ाने को राजी
गौरतलब है कि शुक्रवार को ओपेक देशों और रूस की मीटिंग में जुलाई से रोजाना 10 लाख बैरल क्रूड उत्पादन बढ़ाने पर सहमति बनी थी। सऊदी एनर्जी मिनिस्टर खालिद अल-फलिह ने वियना में हुई बैठक के बाद पत्रकारों को कहा कि मुझे लगता है कि यह दूसरी छमाही में आने वाली अतिरिक्त मांग को पूरा करने में महत्वपूर्ण योगदान देगा। पेट्रोलियम एक्सपोर्ट करने वाले देशों और सहयोगी देशों के संगठनों के बीच 18 महीने के सप्लाई कटौती समझौते में संशोधन पर बातचीत केंद्रित थी। हालांकि इस उत्पादन बढ़ाने पर सहमति के बावजूद क्रूड की कीमतों पर इसका असर नहीं पड़ा। 

5.71 फीसदी महंगा हुआ क्रूड 
न्यूयॉर्क मर्चेंटाइल एक्सचेंज (नायमेक्स) पर क्रूड की कीमतें 5.71 फीसदी बढ़कर 69.28 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गईं। क्रूड में यह तेजी नवंबर, 2016 के बाद की सबसे बड़ी तेजी थी। उधर सऊदी अरब ने कहा कि इससे ग्लोबल सप्लाई में 10 लाख बैरल प्रति दिन (बीपीडी) यानी 1 फीसदी की बढ़ोत्तरी होगी। इराक ने कहा कि क्रूड उत्पादन में वास्तविक बढ़ोत्तरी 7.70 लाख बीपीडी की होगी, क्योंकि कई देश उत्पादन में कमी की समस्या से जूझ रहे हैं। इसलिए उन्हें अपना कोटा पूरा करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। 


Source: World

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*