आज से सऊदी की महिलाएं चलाएंगी गाड़ी, जानें संघर्ष की पूरी कहानी

रियाद 
रविवार से सऊदी अरब देश की महिलाओं को ड्राइविंग सीट पर बैठने की इजाजत देगा। बीते साल सितंबर में किंग सलमान ने अपने बेटे मोहम्मद बिन सलमान द्वारा सुधारों को लागू किए जाने के बाद महिलाओं के ड्राइविंग पर लगे बैन को हटाने का आदेश दिया था। इन सुधारों के जरिए सऊदी अपनी अर्थव्यवस्था में बदलाव लाना चाहता है। बीते 30 साल से ड्राइविंग बैन को हटाने के लिए  

नवंबर 1990 
सऊदी की 40 महिलाओं ने रियाद में एक साथ गाड़ी चलाई। यह प्रतिबंध के खिलाफ पहली बार सार्वजनिक तौर पर विरोध था। इन महिलाओं को एक दिन के लिए जेल हुई और साथ ही पासपोर्ट भी जब्त कर लिया गया। 

सितंबर 2007 
महिला ऐक्टिविस्ट्स ने तत्कालीन किंग अब्दुल्लाह को ड्राइविंग से बैन हटाने के लिए 1000 हस्ताक्षरों के साथ एक याचिका दी। 

मार्च 2008 
वजेहा-अल हुवैदर नाम की एक ऐक्टिविस्ट ने यू-ट्यूब पर गाड़ी चलाते हुए एक विडियो पोस्ट किया। 

जून 2011 
फेसबुक पर ‘Women2Drive’नाम का कैंपेन लॉन्च किया गया। महिलाओं की ड्राइविंग से जुड़े 70 केस दर्ज किए गए। कुछ को गिरफ्तार भी किया गया। 

अक्टूबर 2013 
दर्जनों महिलाओं ने ड्राइविंग करते हुए अपनी फोटो और विडियोज ऑनलाइन शेयर किए। 

नवंबर 2014 
ऐक्टिविस्ट्स लूजा-इन हथलाउल और मायसा अल-अमूदी को 73 दिनों तक हिरासत में रखा गया। यूएई से सऊदी अरब तक ड्राइव करने की कोशिश के बाद इन पर आतंकवाद से जुड़े अपराध दर्ज किए गए। 

सितंबर 2017 
किंग सलमान ने महिलाओं के ड्राइविंग को मंजूरी का आदेश दिया। 

24 जून, 2018 
महिलाओं को आखिरकार ड्राइविंग सीट मिली। 
 


Source: NEWS

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*