गर्मी बढ़ चुकी है, 26 जून के बाद आएगा तूफान: राजभर

लखनऊ 
उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार में कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर खुद गठबंधन से अलग होने की बात नहीं कर रहे, लेकिन ऐसा लगता है कि वह चाहते हैं कि बीजेपी उन्हें गठबंधन से अलग कर दे. इसीलिए आज वाराणसी में उन्होंने कहा कि मैं ऐसी हरकत करता हूं कि बीजेपी मुझे निकाल दे.

हालांकि जब उनसे पूछा गया कि बीजेपी से उनकी मोहब्बत कब तक चलेगी तो उन्होंने कहा कि जब तक बीजेपी उन्हें निकाल नहीं देती.  यूपी सरकार में रहते हुए अपने बगावती सुर के लिए पहचाने जाने वाले कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर का बीजेपी से चल रहा शीतयुद्ध अब अपने चरम पर आ पहुंचा है.

इसी का नतीजा है कि शनिवार को ओमप्रकाश राजभर ने साफ कर दिया कि उन्हें बीजेपी गठबंधन से निकाल देगी. ऐसा इसलिए होगा क्योंकि वे कहते हैं कि  मैं सड़कें बनवाने की बात करता हूं. आवास, पेंशन, शौचालय, शिक्षा और दवाई की बात करता हूं, पिछड़ों में तीन केटगरी बनाने की बात करता हूं. आरक्षण मिल रहा है, लेकिन लाभ नहीं.  इसके लिए मुझे गुस्सा है.  

उन्होंने साफ चेतावनी भी दे दी कि उत्तर प्रदेश में पिछड़ी जाति के आरक्षण में विभाजन नहीं हुआ तो बहुत बुरा परिणाम होगा. उन्होंने कहा कि गर्मी बहुत बढ़ गई है, और 26 जून के बाद बड़ा तूफान आयेगा.

ओमप्रकाश राजभर ने शनिवार दोपहर अपने गांव में फावड़ा उठा कर खुद ही रोड बनाते वीडियो भी पोस्ट किया था और तस्वीरें भी पोस्ट की. वह इस बात से नाराज हैं कि बीजेपी सरकार में उनकी नहीं सुनी जा रही और बेटे की शादी में 500 मीटर की सड़क गांव में बनाने के उनके आग्रह तक को नहीं सुना गया.

सड़क बनाने के लिए खुद उठाया फावड़ा

राजभर ने सड़क बनाने के लिए खुद फावड़ा उठाया और योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि जब एक मंत्री के घर सड़क नहीं बन सकती तो जनता भगवान भरोसे है. दरअसल 24 जून को ओमप्रकाश राजभर के बेटे की शादी है. लेकिन गांव में सड़क नहीं बन पाई है. लगातार अपनी सरकार से गांव की सड़क बनाने की गुहार लगाने के बावजूद जब सड़क नहीं बनी तो मंत्री, उनके परिवार और गांव के लोगों ने खुद ही फावड़ा उठाकर सड़क बनानी शुरू कर दी.

मंत्री के छोटे बेटे ने मीडिया को बयान जारी कर कहा कि 500 मीटर सड़क बनाने के लिए लगभग 6 माह पहले प्रस्ताव दिया था. 24 जून को मंत्री ओमप्रकाश राजभर के बड़े बेटे अरविंद की शादी है, लेकिन काम नहीं हो सका.

बता दें कि मंत्री ओमप्रकाश राजभर के घर वाराणसी के सिंधौरा गांव में शादी समारोह और भोज है. जिसमें वीआईपी, कैबिनेट मंत्री, राज्य मंत्री, सांसद और विधायकों के आने की उम्मीद है. जब सरकार सड़क नहीं बना पाई तो खुद मंत्री ओमप्रकाश राजभर अपने दोनों बेटों अरविद राजभर, अरुण राजभर ने साथ फावड़ा उठाकर सड़क बनाने की कोशिश में जुट गए.


Source: NEWS

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*