व्यापमं घोटाला : सीबीआई कोर्ट ने 4 दोषियों को सुनाई 4-4 साल की सजा

जबलपुर
 सीबीआई कोर्ट ने बहुचर्चित व्यापमं फर्जीवाड़े में जबलपुर जोन में पहला फैसला मंगलवार को सुनाया। इसमें मुरैना निवासी दीपक जाटव (21), लक्ष्मीनारायण जाटव (26), दीवान जाटव (26) और भागीरथ जाटव (49) को 4-4 साल के कठोर कारावास की सजा के अलावा 1-1 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई गई।

चारों पर व्यापमं द्वारा आयोजित वनरक्षक भर्ती परीक्षा-2013 में गड़बड़ी का आरोप लगा था। ये चारों तहसील बामौर जिला मुरैना के अलग-अलग गांव के रहने वाले हैं। मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने व्यापमं मामलों की सुनवाई के लिए चार जोन बनाए हैं। इनमें जबलपुर, भोपाल, इंदौर व ग्वालियर शामिल हैं। सीबीआई की विशेष अदालत में अपर सत्र न्यायाधीश एसएस परमार की अदालत के समक्ष इस मामले की ट्रायल हुई।

पिता ने एक लाख रुपए देकर सॉल्वर से दिलवाई परीक्षा

सीबीआई के विशेष लोक अभियोजक पवन कुमार पाठक ने दलील दी कि मुख्य आरोपित दीपक व्यापमं द्वारा आयोजित वनरक्षक भर्ती परीक्षा-2013 में अभ्यर्थी था। उसके स्थान पर सॉल्वर लक्ष्मीनारायण ने अपनी फोटो लगाकर परीक्षा दी थी। जबकि दीपक के पिता भागीरथ जाटव ने मध्यस्थ दीवान को इस फर्जीवाड़े के लिए एक लाख से अधिक की रकम का भुगतान किया था।

दमोह में साक्षात्कार के दौरान खुली पोल

व्यापमं की वनरक्षक भर्ती परीक्षा-3 मार्च 2013 को मुरैना के सेंट मैरी स्कूल में हुई थी। इसके बाद जब दमोह में सफल अभ्यर्थियों का साक्षात्कार हुआ तो दीपक की जगह परीक्षा देने वाले लक्ष्मीनारायण की फोटो मैच नहीं हुई। संदेह पर पुलिस बुलाकर उसे थाने भेज दिया गया। पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ शुरू की तो सॉल्वर लक्ष्मीनारायण के अलावा दीपक, उसके पिता भागीरथ व मध्यस्थ दीवान को भी गिरफ्तार किया गया।

अदालत में 2015 में पेश किया गया चालान

इस मामले में अभियोजन की ओर से 11 मई 2015 को विशेष अदालत में चालान पेश किया गया। तीन साल तक चली ट्रायल के दौरान अभियोजन की ओर से 44 गवाह पेश किए गए, जिनके बयान रिकॉर्ड पर लिए गए।

सजा सुनते ही फूट-फूटकर रोने लगे

जैसे ही सजा सुनाई गई चारों फूट-फूटकर रोने लगे। चारों को पुलिस 11.30 बजे जिला एवं सत्र न्यायालय जबलपुर लाई। उन्हें कोर्ट लॉकअप में रखा गया। अदालत के समक्ष 12.30 बजे पेश किया गया। 12.40 बजे 20 पेज का फैसला सुनाया गया।


Source: NEWS

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*