अब करुणानिधि की समाधि पर विवाद, स्टालिन की समर्थकों से शांति की अपील

चेन्नई
तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और DMK प्रमुख एम. करुणानिधि का 94 साल की उम्र में निधन हो गया है. उन्होंने मंगलवार शाम 6:10 बजे चेन्नई के कावेरी अस्पताल में आखिरी सांस ली. इस खबर के आते ही तमिलनाडु समेत पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गई. डीएमके समर्थक सड़कों पर उतर आए.

इससे पहले मेडिकल बुलेटिन में करुणानिधि की तबियत और बिगड़ने की बात कही गई थी, जिसके बाद से गोपालपुरम और चेन्नई के कावेरी अस्पताल में उनके समर्थक लगातार जुटने लगे. वहीं, डीएमके समर्थकों की संख्या को देखते हुए पुलिस भी हाई अलर्ट पर है.

करुणानिधि के बेटे स्टालिन ने तमिलनाडु के सीएम को पत्र लिखकर मरीना में जमीन देने की मांग की.

डीएमके सांसदों ने मरीना बीच में अंतिम संस्कार के लिए केंद्र से हस्तक्षेप की अपील की- सूत्र.

बुधवार सुबह साढ़े आठ बजे से दोपहर 1 बजे तक करुणानिधि का शव उनके गोपालपुरम आवास पर और इसके बाद 4 बजे से राजाजी हॉल में अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा.

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने करुणानिधि के निधन पर शोक व्यक्त किया. उन्होंने कहा कि करुणानिधि का तमिलनाडु राज्य के विकास में अहम योगदान रहा, डीएमके के राष्ट्रीय पार्टी होने के बावजूद उन्होंने राष्ट्रीय राजनीतिक में अहम भूमिका निभाई.

तमिलनाडु सरकार के चीफ सेक्रेटरी ने कहा कि करुणानिधि के लिए गांधी मंडपम पर दो एकड़ जमीन देने को तैयार हैं, लेकिन मरीना पर नहीं, क्योंकि वहां पर कानूनी अड़चनें हैं. लोग कावेरी के मरीना पर जगह देने की मांग कर रहे हैं.

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण भी PM नरेंद्र मोदी के साथ बुधवार को चेन्नई जा सकती हैं.

अरविंद केजरीवाल और सोमनाथ चटर्जी बुधवार को 11.30 बजे चेन्नई पहुंचेंगे.

करुणानिधि के निधन पर तमिलनाडु सरकार ने बुधवार की छुट्टी और पूरे सूबे में सात दिवसीय शोक की घोषणा की. तमिलनाडु में थिएटर बंद कर दिए गए हैं. थिएटर ऑनर एसोसिएशन के अबिरामी रामनाथन और पन्नीरसेल्वम ने इसकी पुष्टि की. करुणानिधि के शव को कावेरी अस्पताल से गोपालपुरम आवास ले जाया जाएगा और बुधवार सुबह राजाजी हॉल में अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और अभिनेता रजनीकांत समेत अन्य नेताओं ने ट्वीट कर करुणानिधि के निधन पर शोक जताया है. उन्होंने कहा कि करुणानिधि को देश हमेशा याद रखेगा. उन्होंने ट्वीट किया, ‘इस दुख की घड़ी में मेरी संवेदना करुणानिधि के अनगिनत समर्थकों और परिजनों के साथ है. भारत और खासकर तमिलनाडु उनको हमेशा याद रखेगा. उनकी आत्मा को शांति मिले.’

मोदी ने कहा, ‘मुझे करुणानिधि से कई अवसरों पर मिलने का अवसर मिला. उनको पॉलिसी की अच्छी समझ थी और वो समाज कल्याण के कार्यों पर जोर देते थे. वो लोकतंत्रिक मूल्यों के लिए प्रतिबद्ध थे. आपातकाल के खिलाफ उनका कड़ा विरोध हमेशा याद किया जाएगा.’


Source: NEWS

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*