स्ट्रेचर नहीं तो कंधे ही सही, पुलिसकर्मी ने की प्रेगनेंट की मदद, हुई तारीफ

आगरा
एसओ जीआरपी हाथरस सिटी सोनू कुमार को शुक्रवार को मथुरा की एक अदालत में पेशी में पहुंचना था। वह जैसे ही मथुरा कैंट स्टेशन उतरे उन्हें प्रसव पीड़ा से जूझती एक गर्भवती महिला दिखी जो अस्पताल जाने के लिए कोई साधन खोज रही थी। वह तुरंत उस महिला के पास पहुंचे। उन्होंने पहले तो ऐम्बुलेंस बुलाने की कोशिश की, लेकिन जब वह नहीं मिली तो उन्होंने उस महिला को कंधे पर उठा लिया और खुद ही अस्पताल की तरफ लेकर दौड़ पड़े। महिला ने बाद में एक बच्चे को जन्म दिया, दोनों की हालत अब स्थिर है। उनकी ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर देखते ही देखते खूब वायरल हुईं और लोग उनकी तारीफ करते नहीं थक रहे। 

महिला का नाम भावना है और वह फरीदाबाद की रहने वाली हैं। शुक्रवार को अपने पति महेश के साथ वह हाथरस से फरीदाबाद जा रही थीं कि तभी उन्हें अचानक प्रसव पीड़ा शुरू हो गई। महेश ने बताया, 'हम मथुरा कैंट स्टेशन उतरे। हम वहां नए थे, हमने कई लोगों से मदद मांगी मगर कोई नहीं रुका। तभी सोनू जी हमारे पास आए, उन्होंने पहले ऐंबुलेंस को कॉल की मगर वह नहीं आई। उन्होंने एक ऑटो रिक्शे का इंतजाम किया और उससे हम अस्पताल पहुंचे। मगर डॉक्टर्स ने कहा कि उन्हें महिला अस्पताल ले जाना होगा जो करीब 100 मीटर दूर था।' 

एसओ सोनू ने जरा भी समय नहीं गंवाया और तुरंत महिला को कंधे पर उठाकर महिला अस्पताल की ओर चल पड़े। जहां भावना ने बेटे को जन्म दिया। महेश ने कहा, 'इस मदद के लिए हम उनका शुक्रिया नहीं अदा कर सकते। आज मेरी पत्नी और बच्चे ठीक हैं तो यह उनकी वजह से ही संभव हुआ है। हम उन्हें ठीक से धन्यवाद भी नहीं बोल पाए। वह भावना को महिला अस्पताल में डॉक्टरों की निगरानी में छोड़कर तुरंत वहां से निकल गए।' उधर एसओ सोनू राजौरा ने कहा, 'यह मेरी ड्यूटी थी कि मैं जरूरतमंद की मदद करूं। मैंने 108 और 102 पर कॉल कर ऐंबुलेंस बुलानी चाही, मगर वहां कोई ऐंबुलेंस नहीं उपलब्ध थी। वे लोग मथुरा में नए थे और उन्हें वहां के बारे में कुछ नहीं पता था।'

Source: खेल

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*