गुजरात: पलायन पर CM रूपाणी के दावे की पोल खोलते रेलवे के आंकड़े, यात्रियों की संख्या बढ़ी

अहमदाबाद 
गुजरात में एक बच्ची से रेप के विरोध में उत्तर भारतीयों को स्थानीय लोगों के गुस्से का शिकार होना पड़ा और बड़ी संख्या में लोग उत्तर प्रदेश और बिहार लौटने लगे। इस सबके बीच गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने जनपलायन की बात को ही सीधे तौर पर नकार दिया। उन्होंने कहा कि लोग हेट क्राइम्स की वजह से नहीं, बल्कि त्योहारों की वजह से घर वापस जा रहे हैं। हालांकि, गुजरात के बड़े रेलवे स्टेशन्स का पिछले कुछ दिनों का रेकॉर्ड उठाकर देखें तो पता चलता है कि इस बार घर वापस जाने वालों के पास त्योहारों से ज्यादा वजहें जरूर हैं। 
 
हमारे सहयोगी अखबार अहमदाबाद मिरर को मिले आंकड़ों के मुताबिक, अहमदाबाद समेत चार बड़े स्टेशन्स से 5 और 7 अक्टूबर के बीच पैसेंजर ट्रैफिक पिछले साल की तुलना में काफी बढ़ा हुआ था। गांधीधाम स्टेशन में 6 अक्टूबर को 137 प्रतिशत बढ़ोतरी देखी गई। अगर लोग केवल त्योहारों के लिए जा रहे होते तो इतनी बढ़ोतरी होना मुश्किल था। 

 कई स्टेशन्स पर बढ़ी संख्या 
वहीं, 5 अक्टूबर को अहमदाबाद और मेहसाणा में यात्रियों की संख्या में लगभग 24 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखी गई जो 7 अक्टूबर को 60 प्रतिशत के करीब पहुंच गई थी। एक रेलवे अधिकारी ने भी बताया है कि बड़ी संख्या में घर जाने के पीछे डर एक बड़ा कारण है। डिविजनल रेलवे मैनेजर दिनेश कुमार ने बताया कि हमलों के कारण यकीनन पलायन हुआ है। हालांकि, इसकी संख्या को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया जा रहा है। 

CM ने कहा था, ‘नहीं हो रहे हमले’ 
बता दें कि राजस्थान, उत्तर प्रदेश और बिहार के हिंदी-भाषी लोग गुजरात में हिंसा के बाद अपने घरों को वापस लौट रहे हैं। दरअसल, बिहार के एक मजदूर के ऊपर एक 14 महीने की बच्ची से रेप का आरोप है। लगातार लोगों पर हमले और नतीजतन उनके घर वापस जाने की खबरों के बीच गुजरात के मंत्री और अधिकारी यह विश्वास दिलाने में जुटे हैं कि लोग अपने घरों को त्योहारों के लिए जा रहे हैं। यहां तक कि यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी कहा था कि गुजरात के सीएम ने उन्हें बताया है कि वहां उत्तर भारतीयों पर कोई हमले नहीं हो रहे हैं। 
 


Source: राजनीति

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*