बिन्द्रानवागढ़ में तीन दावेदारों की तिकडी BJP के लिए बनी परेशानी का सबब

बिन्द्रानवागढ़
छत्तीसगढ़ में गरियाबंद जिले की बिन्द्रानवागढ़ विधानसभा में तीन दावेदारों की तिकडी बीजेपी के लिए जी का जंजाल बन गई है. पार्टी के लिए तीन में से किसी एक का टिकट तय करना मुश्किल हो गया है. पार्टी में फूट के डर से पार्टी के लिए यहां दावेदारों में सामंजस्य बैठाना ज्यादा जरूरी हो गया है. टिकट के तीनों प्रबल दावेदार फिलहाल ऊंची पहुंच का हवाला देकर अपनी टिकट पक्की मानकर चल रहे हैं.

कभी बीजेपी की सबसे सुरक्षित सीटों में शामिल बिन्द्रानवागढ़ विधानसभा इस बार टिकट के तीन दावेदारों में उलझ गई है. पार्टी को यहां दूसरी पार्टियों से कम खुद की पार्टी में फूट का खतरा ज्यादा नजर आ रहा है. इसलिए किसी एक दावेदार का टिकट फाइनल करना पार्टी के लिए मुश्किल हो गया है.

पार्टी को भलीभांति मालूम है कि जब भी पार्टी से बगावत कर कोई मैदान में उतरा है तब पार्टी को उसका खामियाजा भुगतना पड़ा है. फिलहाल, गोवर्धन मांझी यहां से बीजेपी के विधायक हैं और इस बार खुद को टिकट का प्रबल दावेदार मान रहे हैं. गोवर्धन के मुताबिक पार्टी ने अगर दोबारा उन्हें प्रत्याशी बनाया तो उनकी जीत सुनिश्चित है.

वहीं टिकट के दूसरे दो प्रबल दावेदार पूर्व विधायक डमरुधर पुजारी और अनुसुचित जनजाति प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष भागीरथी मांझी हैं. डमरुधर पुजारी पिछले कार्यकाल में विधायक रह चुके हैं और फिलहाल 5 साल से पार्टी में हासिए पर चल रहे हैं, लेकिन इस बार वे खुद को टिकट का प्रबल दावेदार बता रहे हैं. वहीं भागीरथी मांझी जनता का भरपूर समर्थन मिलने का दावा करते हुए अपनी टिकट को लेकर निश्चिंत नजर आ रहे हैं.

बहरहाल, पार्टी को टिकट से ज्यादा पार्टी में फूट का डर है. यही कारण है कि पार्टी टिकट तय करने में फूंक फूंक कर कदम रख रही है. ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि पार्टी तीनों के बीच तालमेल बैठाकर किस तरह इस सीट पर अपनी हैट्रिक लगाने में कामयाब होती है.


Source: राजनीति

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*