विजयादशमी पर रावण दहन देखने पहुंचे हजारों नगरवासी

अशोकनगर
असत्य पर सत्य की जीत के प्रतीक दशानन रावण के पुतले का दहन स्थानीय मोहरी की पठार पर किया गया। विजयादशमी पर्व को लेकर नगर भर में काफी उत्साह देखा गया। विजयादशमी पर्व के दौरान दोपहर से ही आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से आये श्रद्धालु दशहरा मैदान मोहरी की पठार पर पहुंचने लगे। इस मौके पर विजया दशमी पर्व के मुख्य समारोह के दौरान जिले के बरिष्ठ अधिकारी कर्मचारी, नेता और अतिथि उपस्थित रहे। समारोह को सभी अतिथियों ने संबोधित किया। गौरतलव है कि विजयादशमी क ा पर्व नगर में लगातार कई वर्षों से मनाया जा रहा है इसके लिए पुलिस द्वारा भी सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए। विजयादशमी पर्व के दिन चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात रही और जगह-जगह बैरी गेट्स लगाए गए।

विजयादशमी पर्व मनाने के लिये सुभाषगंज स्थित रामलीला मैदान से भगवान राम की सेना और दशानन रावण की सेनायें सजधज कर रथों में सवार होकर नगर के मुख्य मार्गों से होती हुई दशहरा मैदान पहुंचीं। इस दौरान दोनों सेनाओं के साथ ढोल-नगाड़ों की थाप पर थिरकते हुये युवाओं में खासा उत्साह देखा गया। दशहरा मैदान पर हुये विजयादशमी समारोह में लोगों ने शानदार आतिशबाजी का आनंद उठाया। समारोह का शुभारंभ अतिथियों के माल्र्यापण और उदï्बोधन के साथ हुआ। इसके पश्चात रावण के पुतले का पूजन किया गया वहीं मैदान में श्रीराम की सेना और रावण की सेना में भयंकर युद्ध हुआ, युद्ध के दौरान भगवान राम द्वारा बुराई रूपी विशालकाय दशानन रावण के पुतले में आग लगाई गई। रावण के साथ-साथ उसके भाई कुम्भक रण और पुत्र मेघनाथ के पुतले भी जलाये गये।

आतिशबाजी रही आकर्षण का केन्द्र – रावण दहन के मौके पर  चलाई गई आकर्षक आतिशबाजी समारोह स्थल पर मौजूद हजारों लोगों के आकर्षण का केंन्द्र रही। समारोह के लिये सुरक्षा की दृष्टि से चाक-चौबंध इंतजामात किये गये और किसी प्रकार की अप्रिय घटना से निपटने के लिए फायर बिग्रेड और पुलिस के व्यापक इंतजाम रहे। वहीं आने-जाने वाले रास्तों पर वेरीगेट्स भी बनाये गये। इस वर्ष रावण के पुतले को नया रंग-रूप दिया गया था। दशहरा उत्सव के लिये मोहरी पठार पर हजारों की संख्या में लोग एकत्रित हुये।


Source: खेल

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*