मोदी अब भाषणों में नही करते रोजगार की बात: राहुल गांधी 

सागर/सिवनी
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश में बढती बेरोजगारी को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर हमला करते हुए आज कहा कि हर वर्ष दो करोड युवाओं को रोजगार का वादा कर सत्ता में बैठे मोदी ने अपने साढे चार वर्षो के शासन के दौरान कभी भी अपने भाषणों में रोजगार की बात नहीं की। गांधी ने सागर जिले के देवरी और सिवनी जिले के बरघाट में चुनावी सभाओं को संबोधित करते हुए यह बाते कहीं। उन्होंने कहा कि युवाओं की चिंता न तो मोदी को है और न ही मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को। उन्होंने कहा कि मोदी ने हर वर्ष दो करोड युवाओं को रोगजार देने की बात कही, लेकिन उस पर अमल नहीं किया। उसी प्रकार चौहान ने प्रदेश के नौजवानों से झूठे वादे किए हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में 85 लाख बेरोजगार है, जबकि हजारों सरकारी नौकरी खाली पड़ी हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में काग्रेंस की सरकार बनने पर सबसे पहले सारी खाली पडे सरकारी पदों को भरेंगे। संविदा कर्मियों को भी लाभ पहुंचाया जायेगा। उन्होंने कहा कि मोदी ने अपने अमीर मित्रों को साढे तीन लाख करोड़ बांट दिए, जब मैंने उनसे किसानों के कर्जमाफी के लिए कहा तो वो कुछ नहीं बोले।

सिवनी के बरघाट में उन्होंने कहा कि आदिवासियों के लिए सबसे जरूरी जल, जंगल और जमीन है। हमने आदिवासियों, किसानों की जमीन की रक्षा के लिए जमीन अधिग्रहण बिल बनाया था। यूपीए सरकार ने पैसा, कानून और आदिवासी कानून बनाया था। तीनों का लक्ष्य आदिवासियों की जमीन का फायदा उसके मालिक को देना था, लेकिन प्रधानमंत्री बनते ही मोदी ने इन कानून पर आक्रमण किया। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात और उत्तर प्रदेश में इस कानून का पालन न कराकर आदिवासियों और किसानों की जमीन छीनकर उद्योगपतियों को दे दी गई। हमारी सरकार बनते ही आदिवासियों, किसानों को उनकी जमीनें वापस दिलाई जाएंगी। साथ ही उनकी जमीन की हम रक्षा करेंगे। उन्होंने कहा कि चुनाव के वक्त मोदी ने कहा था कि मुझे प्रधानमंत्री नहीं चौकीदार बनाओ। जनता ने यह सोचा था कि वह किसानों, मजदूरों, युवाओं, माताओं, बहनों और कमजोर वर्ग के लोगों का चौकीदार बना रहे हैं, लेकिन प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी उद्योगपतियों के चौकीदार बन गए हैं।


Source: विश्व

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*