बुरी नजर से बचने के लिए अपनाएं ये उपाय

बुरी नजर से बचने के लिए अपनाएं ये उपाय

दुनिया में कई तरह की परेशानियां कई तरह के रोग और इनमें एक बड़ी परेशानी नजर लगना या किसी के द्वारा कराया जाने वाला टोना-टोटका होता है।

बुरी नजर का दोष हर धर्म में बहुत ही खतरनाक माना गया है यहां तक यह भी कहा जाता है की इसका प्रभाव किसी व्यक्ति की जान ले सकता है। आज हम आपको ज्योतिष से जुड़े कुछ ऐसे अचूक उपाय बताने जा रहे है जो आप पर, आपके व्यपार अथवा घर पर लगे नजर को पूरी तरह से नष्ट कर देगी।

क्या आपका बच्चा बेवजह हो रहा है परेशान?, क्या आपके घर पर आ रही है विपदा?, क्या आपकी गाड़ी लगातार हो रही है दुर्घटनाग्रस्त?, क्या आपका व्यापार हो गया है मंदा? या फिर क्या आपकी अच्छी कमाई पर लग गया है ग्रहण? तो जानिए वो अचूक उपाय जो हर बुरी नजर आपको बचाएंगे।

1 . यदि आप नजर दोष से ग्रसित है तो भेरो मंदिर से मिलने वाला काला धागा धारण करे ।

2 . नजर उतारने के लिए पीली सरसोंए लाल मिर्च सूखी हुई अजवाइन को किसी बर्तन में जलाएं और उससे निकलने वाले धुएं को बच्चे को लगने दें। यह उपाय करने से नजर तुरंत उतर जाती है।

3 . अपने घर या कार्यस्थल को बुरी नजर के प्रभावों से बचाने के लिए घर के बाहर नींबू और हरी मिर्ची को शनिवार या मंगलवार को एक धागे में पिरोकर लटका देना चाहिए। इसे सूखने पर तुरंत बदल दें।

4 . व्यापार-धंधे में आ रही परेशानियों को मिटाने के लिए शनिवार के दिन एक हरे नींबू को दुकान की चारों दीवारों पर स्पर्श कराएं। इसके बाद नींबू को चार टुकड़ों में अच्छे से काट लें और चारों दिशाओं में नींबू का एक एक टुकड़ा फेक दे।

5 . यदि आपको घर में कोई ऊपरी बाधा लगती है तो ऐसी स्थिति में गंगा जल या गोमूत्र का छिड़काव कर सकते है इसके अलावा लोबान का धुँआ भी कर सकते है। इससे ग्रह दोष दूर होगा और सुख शांति आएंगी।

6 . व्यापार में यदि नजर दोष जैसी बाधा का आभास हो रहा है तो आप चार कीलें घर के या अपनी दुकान के अंदर चारों दिशाओं में ठोंक दें, बाधा से मुक्ति प्राप्त होगी।

7. कई बार ऐसा होता है कि हम नया वाहन खरीदते हैं लेकिन लोगों की उस पर बुरी दृष्टि से बार-बार दुर्घटनाएं हो रही होती हैं। ऐसे में लाल कपड़े की थैली में आठ छुहारे बांधकर वाहन के अंदर रखें। बुरी दृष्टि का असर समाप्त हो जाएगा।

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*